रेलवे में Junction | Terminals | Central | क्या होते है | इनकी खास वजह

स्टेशन में Junction | Terminals | Central क्या होते है ? आज हम इनके बारे में जानेंगे  की इनके पीछे क्या राज है | भारत में रेलवे का बहुत बड़ा रोल है रेल जब अपने अलग अलग स्टेशन पर रूकती है अगर अपने कभी गौर किया होगा तो रेलवे स्टेशन पर Junction, terminus, central etc. लिखा पढ़ा होगा | आइये इनके बारे में जानते है |

Junction | Terminals | Central in Hindi
Junction | Terminals | Central in Hindi

Junction | Terminals | Central | क्या होते है?

भारत में स्टेशन को 4 भागो में बांटा गया है |

  • स्टेशन
  • जंक्शन
  • टर्मिनस
  • सेंट्रल

जंक्शन किसे कहते है ?

रेलवे स्टेशन में जंक्शन उस रेलवे स्टेशन को कहा जाता है वह कम से कम 3 अलग अलग रूट पर जा और आ सकती है या ऐसा Station जहा पर चार दिशाओ में ट्रेन आ और जा सकती है उसे जंक्शन(Junction) कहते है |

भारत में सबसे बड़ा जंक्शनमथुरा जंक्शन है जहा से 7  रूट निकलते है

 

टर्मिनस / टर्मिनल्स किसे कहते है ?

Terminus या Terminals ऐसे स्टेशन को कहा जाता है जहा से ट्रेन उस Station से आगे नही जा सकती है ट्रेन को उस स्टेशन से वापिस ही आना पड़ता है जिस दिशा से ट्रेन उस Station पर जाती है दुसरे स्टेशन पर जाने के लिए उस ट्रेन को उसी दिशा में उल्टा लौटना पड़ेगा | वो एक टर्मिनल्स स्टेशन होता है

जैसे की “छत्रपति शिवाजी टर्मिनल,  “लोकमान्य तिलक टर्मिनस” इत्यादि | भारत में कुल 27 टर्मिनस स्टेशन है

सेंट्रल स्टेशन किसे कहते है ?

भारत में Central Station पुराने और व्यस्त स्टेशन को भी कहा जाता है| ये भारत के कुछ बड़े शहर के Station को भी कहा जाता है| Central Station में आस पास के स्टेशन को मिलकर बनाया जाता है | भारत में 5 सेंट्रल स्टेशन है जो की बहुत व्य्स्त भी है |

उदाहरण के लिए : मुंबई सेन्ट्रलचेन्नई सेन्ट्रल, त्रिवेंन्द्रम सेन्ट्रल, मैंग्लोर सेन्ट्रल, कानपुर सेन्ट्रल

स्टेशन किसे कहते है ?

दोस्तों आप सोच रहे है की रेलबे के स्टेशन को ही Station ही कहते है पर आप बिलकुल सही है | रेल आने वाले यात्रिओ के लिए रूकती है और जाती है | ये जगह निर्धारित होती है | भारत में 9000 हज़ार के आस पास स्टेशन है

दोस्तों ये कुछ अंतर है जो हमने आपको बताया है अगर आपके पास कोई सुझाव और राय है तो कमेंट जरुर करिए

हिंदी करंट अफेयर्स PDF डाउनलोड करे 

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.